कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया

Presenting कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया  Lyrics: A very beautiful song कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया  Lyrics sung by Hemlata. Lyrics has penned by Ravindra Jain. Music composed is given by Ravindra Jain An awesome song is coming out through Bollywood Classics Music Lable.


कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया

कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया – (३)

ठहर ठहर, ये सुहानी सी डगर

ज़रा देखन दे, देखन दे

मन भरमाये नयना बाँधे ये डगरिया – (२)

कहीं गए जो ठहर, दिन जायेगा गुज़र

गाडी हाँकन दे, हाँकन दे, कौन दिसा…

पहली बार हम निकले हैं घर से, किसी अंजाने के संग हो

अंजाना से पहचान बढ़ेगी तो महक उठेगा तोरा अंग हो

महक से तू कहीं बहक न जाना – (२)

न करना मोहे तंग हो, तंग करने का तोसे नाता है गुज़रिया – (२)

हे, ठहर ठहर, ये सुहानी सी डगर

ज़रा देखन दे, देखन दे,  कौन दिसा…

कितनी दूर अभी कितनी दूर है, ऐ चंदन तोरा गाँव हो

कितना अपना लगने लगे जब कोई बुलाये नाम हो

नाम न लेतो क्या कहके बुलायें – (२)

कैसे करायें काम हो, साथी मितवा या अनाड़ी कहो गोरिया – (२)

कहीं गये जो ठहर, दिन जायेगा गुज़र

गाड़ी हाँकन दे, हाँकन दे,  कौन दिसा…

ऐ गुंजा, उस दिन तेरी सखियाँ, करती थीं क्या बात हो?

कहतीं थीं तोरे साथ चलन को तो, आगे हम तोरे साथ हो

साथ अधूरा तब तक जब तक – (२)

पूरे ना हो फ़ेरे साथ हो, अब ही तो हमारी है बाली रे उमरिया – (२)

ठहर ठहर, ये सुहानी सी डगर

ज़रा देखन दे, देखन दे,  कौन दिसा…

Lyrics Written By Ravindra Jain

This is the end of Ravindra Jain If you have any queries or suggestions, please contact us.

song credits

song          अँखियों के झरोखों से

Singer       Hemlata, Jaspal Singh

Lyrics     Ravindra Jain

Music     Ravindra Jain

Lable    Bollywood Classics

कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया Video

FEATURES POST

You May Also Like…..